मुखपृष्ठ » हमारे बारे में

इंडियन स्‍ट्रेटेजिक पेट्रोलियम रिज़र्वस लिमिटेड

ऊर्जा ऊर्जा सुरक्षा सुनिश्‍चित करने के लिए, भारत सरकार ने तीन स्‍थलों नामत: विशाखापट्टनम, मंगलौर और पादुर पर (उडूपी के निकट) 5 मिलियन मीट्रिक टन (एमएमटी) के सामरिक खनिज तेल भंडार बनाने का निर्णय लिया था। ये सामरिक भंडारण तेल कंपनियों के पास खनिज तेल और पेट्रोलियम उत्‍पादों के विद्यमान भंडारणों के अतिरिक्‍त होंगे और बाहरी आपूर्ति बाधाओं के प्रतिउत्‍तर में एक ढाल के रूप में कार्य करेंगे। सामरिक खनिज तेल भंडारण सुविधाओं के निर्माण का प्रबंधन एक विशेष प्रयोजन कंपनी इंडियन स्‍ट्रेटेजिक पेट्रोलियम रिज़र्वस लिमिटेड (आईएसपीआरएल) द्वारा किया जा रहा है, जो तेल उद्योग विकास बोर्ड (ओआईडीबी) की पूर्ण स्‍वामित्‍व वाली अनुषंगी है। इंजीनियर्स इंडिया लिमिटेड (ईआईएल) को सभी तीन परियोनाओं हेतु परियोजना प्रबंधन परामर्शदाता के रूप में लिया गया है।

खनिज तेल भंडारण क्षमताओं का निर्माण भूमिगत चट्टान केवर्नों में किया गया है और यह भारत के पूर्वी तथा पश्‍चिमी तटों पर अवस्‍थित है। इन केवर्नों से खनिज तेल की आपूर्ति भारतीय रिफाइनरियों को या तो पाइपलाइनों अथवा पाइपलाइनों तथा जहाज के संयोजन के माध्‍यम से किया जा सकता है। भूमिगत चट्टान केवर्नों को हाइड्रोकार्बन भंडारण का सबसे सुरक्षित तरीका माना जाता है। परियोजना की अनुमानित लागत सितम्‍बर 2005 मूल्‍यों पर 2400 करोड़ रूपए थी। इसमें केवर्नों में खनिज तेल भरने की लागत शामिल नहीं है। विशाखापट्टनम केवर्न की क्षमता को बढ़ा कर 1.33 एमएमटी करने और अनुपातिक लागत साझा आधार पर हिन्‍दुस्‍तान पेट्रोलियम कारपोरेशन लिमिटेड, (एचपीसीएल) द्वारा 0.3 एमएमटी कम्‍पार्टमेंट के अतिरिक्‍त उपयोग हेतु अनुमति देने के लिए केन्‍द्रीय मंत्रिमंडल का अनुमोदन प्राप्‍त किया गया था, के साथ साझा किया जाएगा। सरकार ने उक्‍त हेतु अपना अनुमोदन प्रदान कर दिया है। इस अनुमोदन के परिणामस्‍वरूप सामरिक भंडारण क्षमता 5.03 एमएमटी है।

विशाखापट्टनम, मंगलौर और पादुर हेतु अनुमोदित संशोधित लागत अनुमान क्रमश: 1178.35 करोड़ रूपये, 1227 करोड़ रूपये और पादुर 1693 करोड़ रूपये है। सभी तीन परियोजनाओं हेतु कुल लागत 4098.35 करोड़ रूपये है, जिसमें से 265.79 करोड़ रूपए को विशाखापट्टनम में 0.3 एमएमटी कंपार्टमेंट हेतु हिंदुस्तान पेट्रोलियम कारपोरेशन लिमिटेड द्वारा मुहैया करवाया जा रहा है।


अगला पृष्ठ »

Total Visitors : url and counting visits
Last Updated on 9 May 2018